बाल संस्कार

 आज सबसे बड़ी आवश्यकता है पड़ोसी धर्म का निर्वाह करना

*श्रुतम्-181*

 *आज सबसे बड़ी आवश्यकता है पड़ोसी धर्म का निर्वाह करना*

अपना कुछ पड़ोस धर्म भी है। उस धर्म के अनुसार हमें यह जानकारी करनी चाहिए कि इन पड़ोसियों का जीवनयापन कैसे चलता है? उनकी कठिनाइयाँ, दु:ख क्या हैं? उनकी सहायता में तत्पर रहना पड़ोसी का धर्म है। पड़ोस में कोई गड़बड़ हुई, तो अपना दरवाजा अंदर से बंदकर बैठना पड़ोस-धर्म नहीं है। पड़ोस में कोई अस्वस्थ हुआ तो अपने भाग्य से हुआ होगा, वह जिए चाहे मरे, ऐसा सोचकर उसकी अनदेखी करना पड़ोसी का धर्म नहीं है। इसमें पड़ोस-धर्म तो दूर की बात रही, मनुष्यता भी नहीं है। अत: पड़ोस-धर्म का पालन करने हेतु घर-घर में जाना, सबसे मिलना, बोलना, सबसे अत्यंत स्नेह और आत्मीयता के संबंध रखने का प्रयास करना और इस बात का भी कि सबके हृदय में हमारे बारे में ऐसी धारणा बने कि यह व्यक्ति विश्‍वास करने योग्य है, इसमें अपने प्रति निष्कपट, नि:स्वार्थ प्रेम है। यह अपना सच्चा मित्र है, अपने को कोई कष्ट नहीं होने देगा, नित्य अपना साथ देगा और जरूरत पड़ने पर सहायता के लिए दौड़ा आएगा। इस विश्‍वास के बल पर सब पड़ोसी मानो एक बड़ा परिवार बने हैं, ऐसा हम प्रयास करें।

*हिंदू समाज में इस संस्कार के विकास करने की इस समय प्रबल आवश्यकता है क्योंकि इसी के माध्यम से हम समाज को संगठित करने में समर्थ हो सकते हैं।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *