बाल संस्कार

उच्चतम न्यायालय की दृष्टि में हिंदु, हिंदुत्व और हिंदुइज्म

*श्रुतम्-246*

*उच्चतम न्यायालय की दृष्टि में हिंदु, हिंदुत्व और हिंदुइज्म*

क्या हिंदुत्व को सच्चे अर्थों में धर्म कहना सही है?

इस प्रश्न पर उच्चतम न्यायालय ने शास्त्री यज्ञपुरुषदास जी और अन्य विरुद्ध मूलदास भूरदास वैश्य और अन्य 1963(3) एसीआर 242 के प्रकरण का विचार किया। इस प्रकरण में प्रश्न उठा था कि स्वामीनारायण संप्रदाय हिंदुत्व का भाग है अथवा नहीं।

इस प्रकरण में उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री गजेंद्र गडकर ने अपने निर्णय में लिखा- *”जब हम हिंदू धर्म के संबंध में सोचते हैं तो हमें हिंदू धर्म को परिभाषित करने में कठिनाई अनुभव होती है। विश्व के अन्य मजहबों के विपरीत हिंदू धर्म किसी एक दूत को नहीं मानता, किसी एक भगवान की पूजा नहीं करता, किसी एक मत का अनुयायी नहीं है, वह किसी एक दार्शनिक विचारधारा को नहीं मानता, यह किसी एक प्रकार की मजहबी पूजा पद्धति या रीति नीति को नहीं मानता, वह किसी मजहब या संप्रदाय की संतुष्टि नहीं करता है। बृहद रूप में हम इसे एक जीवन पद्धति के रूप में ही परिभाषित कर सकते हैं इसके अतिरिक्त और कुछ नहीं।”*

रमेश यशवंत प्रभु विरुद्ध प्रभाकर कुंटे (ए आई आर 1996 एस सी 1113) के प्रकरण में उच्चतम न्यायालय को विचार करना था कि विधानसभा के चुनाव के दौरान मतदाताओं से हिंदुत्व के नाम पर वोट मांगना क्या मजहबी भ्रष्ट आचरण है। उच्चतम न्यायालय ने इस प्रश्न का नकारात्मक उत्तर देते हुए अपने निर्णय में कहा- *”हिंदू हिंदुत्व, हिंदुइज्म को संक्षिप्त अर्थों में परिभाषित कर किन्ही मजहबी संकीर्ण  सीमाओं में नहीं बांधा जा सकता।  इसे भारतीय संस्कृति और परंपरा से अलग नहीं किया जा सकता। यह दर्शाता है कि हिंदुत्व शब्द इस उपमहाद्वीप के लोगों को जीवन पद्धति से संबंधित है। इसे कट्टरपंथी मजहबी संकीर्णता के समान नहीं कहा जा सकता। साधारणतया हिंदुत्व को एक जीवन पद्धति और मानव मन की दशा से ही समझा जा सकता है।”*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *