बाल संस्कार

गोपीकृष्ण विजयवर्गीय

स्वाधीनता का अमृत महोत्सव

मध्यभारत के गुमनाम नायक (Unsung Heroes) ……

गोपीकृष्ण विजयवर्गीय

 

गोपीकृष्ण विजयवर्गीय का जन्म 23 जनवरी 1905 का हुआ। आपके पिता बालमुकुन्द विजय वर्गीय थे । आपने विधिवत् शिक्षा हाई स्कूल तक प्राप्त की तथा 1 वर्ष ग्वालियर कॉलेज में सन् 1921 के आसहयोग आन्दोलन से प्रभावित होकर कॉलेज की पढ़ाई छोड़ी। आपने लखनऊ बनारस में कार्य किया। आप आर्य समाज से भी जुड़े और उसमें भी योगदान दिया।

सन् 1929-30 में सायमन कमीशन का विरोध किया । नमक सत्याग्रह में अजमेर में जेल 1930-31 (दूरबीन पेक्ट में छूटे) सन् 1932 के सविनय अवज्ञा आन्दोलन में 1 वर्ष अजमेर जेल में भी रहे। तथा सन् 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन में भाग लेने कारण शिवपुरी जेल में रहे। कुल मिलाकर अजमेर तथा शिवपुरी जेलों में 2 वर्ष 6 माह से अधिक कारावास।

आपने कड़ी में ग्राम सेवा कुटीर चलाया सन् 1922 से 1938 तक उज्जैन व्यावरा तथा इन्दौर में मजदूर संघ कार्य किया। आपकी इन्दौर राज्य प्रजामंडल की स्थापना में प्रमुख भागदारी रही। इन्डिया स्टेट पीपुल्स कान्फेरेन्स के स्टेंडिंग कमेटी तथा भारतीय संविधान परिषद के सदस्य राज्य सभा में 12 वर्ष रहे।

भूतपूर्व मध्यभारत राज्य के मुख्यमंत्री रहे। आप अच्छे वक्ता, लेखक एवं कवि के रूप में व्यख्यात है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *