बाल संस्कार

 छत्रपति शिवाजी की न्यायप्रियता का मुस्लिम सहयोगियों पर प्रभाव

*श्रुतम्-239*

 *छत्रपति शिवाजी की न्यायप्रियता का मुस्लिम  सहयोगियों पर प्रभाव*

1650 के पश्चात बीजापुर, गोलकुंडा, मुग़लों की रियासत से भागे अनेक मुस्लिम,पठान व फारसी सैनिकों को विभिन्न ओहदों पर शिवाजी द्वारा रखा गया था जिनकी धर्म सम्बन्धी आस्थाओं में किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं किया जाता था और कई तो अपनी मृत्यु तक शिवाजी की सेना में ही कार्यरत रहे।

कभी शिवाजी के विरोधी रहे सिद्दी संबल ने शिवाजी की अधीनता स्वीकार कर की थी और उसके पुत्र सिद्दी मिसरी ने शिवाजी के पुत्र शम्भा जी की सेना में काम किया था।

शिवाजी की दो टुकड़ियों के सरदारों का नाम इब्राहीम खान और दौलत खान था जो मुग़लों के साथ शिवाजी के युद्ध में भाग लेते थे। क़ाज़ी हैदर के नाम से शिवाजी के पास एक मुस्लिम था जो की ऊँचे ओहदे पर था।

पोंडा के किले पर अधिकार करने के बाद शिवाजी ने उसकी रक्षा की जिम्मेदारी एक मुस्लिम फौजदार को दी थी।

जब आगरा में शिवाजी को कैद कर लिया गया था तब उनकी सेवा में एक मुस्लिम लड़का भी था जिसे शिवाजी के बच निकलने का पूरा वृतांत मालूम था। शिवाजी के बच निकलने के पश्चात उसे अत्यंत मार खाने के बाद भी स्वामी भक्ति का परिचय देते हुए अपना मुँह कभी नहीं खोला था। शिवाजी की सेना में कार्यरत हर मुस्लिम सिपाही चाहे किसी भी पद पर हों, *शिवाजी की न्यायप्रिय नीति के कारण उनके जीवन भर सहयोगी बने रहे।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *