बाल संस्कार

 पूर्णकालिक हिंदू सेवा-प्रचारक तैयार कर रहा है हिन्दू सेवा प्रतिष्ठान

*श्रुतम्-215*

 *पूर्णकालिक हिंदू सेवा-प्रचारक तैयार कर रहा है हिन्दू सेवा प्रतिष्ठान*

 

यह एक बहुत ही भिन्न प्रकार का *समर्पण समारोह* था। यह राष्ट्र की सेवा में किसी बांध या अस्पताल का समर्पण नहीं था। यह तो सजीव मानव का समर्पण समारोह था। धवल श्वेत वस्त्र धारी 23 युवकों तथा युवतियों के इस जत्थे ने बेंगलुरु में स्वयंसेवकों द्वारा स्थापित *हिंदू सेवा प्रतिष्ठान* के आयोजन में 6 सप्ताह का सघन प्रशिक्षण पूरा किया था। प्रतिष्ठान के कुलपति पेजावर मठ के स्वामी जी ने उन्हें आशीर्वाद दिया। उसके बाद उन्हें *पूर्णकालिक सेवाव्रती* सामाजिक धर्म प्रचारकों के रूप में कर्नाटक के विभिन्न स्थानों में नियुक्त किया गया। यह 1980 की घटना थी।

अगले वर्ष और अधिक संख्या में युवतियां हिंदू सेवा ञप्रतिष्ठान के आंदोलन में कूद पड़ी। उनके लिए पृथक शिविरों का आयोजन होने लगा। विगत कई वर्षों से यह परंपरा चली आ रही है। महिला और पुरुष सेवाव्रतियों के लिए अलग-अलग एक-एक शिविर लगते हैं। दिनोंदिन ऐसे व्रतियों की संख्या बढ़ती जा रही है। अब तक समूचे कर्नाटक में 2300 युवा सेवाव्रती समाज सेवा के विभिन्न क्षेत्रों में जुट गए हैं।

यथा-योग-शिक्षण और योग-चिकित्सा, बोलचाल की संस्कृत का प्रचार, शिशु विहार, मलिन बस्तियों और अन्य पिछड़े क्षेत्रों में संस्कार केंद्र तथा विद्यालयों की स्थापना, अस्पताल तथा स्वास्थ्य संवर्धन प्रकल्प, वनवासी कल्याण, व्यक्तित्व विकास, मानसिक विकलांगो के लिए विद्यालय, अनाथालय, प्रौढ़ शिक्षा, परामर्श और मार्गदर्शन, मातृ मंडलियाँ, धर्म प्रसार, पर्यावरण संरक्षण और बाल गोकुलम् आदि आदि।

सेवा भर्ती चयन प्रक्रिया सीधी और सरल है। समाचार पत्रों के माध्यम से इच्छुक जनों का आह्वान किया जाता है। उसके बाद उनका साक्षात्कार किया जाता है और सेवाव्रत के लिए आवश्यक उनकी मानसिक रूचि तथा अन्य योग्यताओं को परखा जाता है। कम से कम 3 वर्ष की सेवा का बंधन रखा जाता है। उसके बाद तो जब तक वे चाहे सेवा कर सकते हैं। उनकी मूलभूत आवश्यकताओं को प्रतिष्ठान पूरा करता है।

*सेवाव्रतियों के साथ स्थानीय जन सहयोग बढ़ता ही जा रहा है। कारण प्रत्यक्ष को प्रमाण क्या? सेवाव्रतियों की कर्मठता और ध्येयनिष्ठा उनके सामने हैं।*

*स्वयंसेवकों के प्रति लोगों की अटूट श्रद्धा और विश्वास है।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *