बाल संस्कार

बेटी

प्रेरक

पिता बेटी
“पापा मेने आपके लिए हलवा बनाया है 11 साल की बेटी” अपने पिता से बोली जो की अभी ऑफिस से घर में घुसा ही था!
पिता_ – वाह क्या बात है,लाकर खिलाओ फिर पापा को !! बेटी दौड़ती हुई फिर रसोई में गई और बड़ा कटोरा भरकर हलवा लेकर आई. पिता ने खाना शुरू किया और बेटी को देखा पिता की आखो में आँसू थे!
“क्या हुआ पापा हलवा अच्छा नहीं लगा”
पिता – नहीं मेरी बेटी बहुत अच्छा बना है , और देखते देखते पूरा कटोरा खाली कर दिया!
इतने में माँ बाथरूम से नहाकर बाहर आई, और बोली : ला मुझे खिला तेरा हलवा !!
पिता ने बेटी को 50 रुपए इनाम में दिये ।

बेटी खुशी से मम्मी के लिए रसोई से हलवा लेकर आई! मगर ये क्या जेसे ही उसने हलवा की पहली चम्मच मुँह में डाली तो तुरंत थूक दिया । और बोली “ये क्या बनाया है … ये कोई हलवा है!इसमें चीनी नहीं नमक भरा है!और आप इसे कैसे खा गए ये तो एकदम कड़वा है !!”
पत्नी :- “मेरे बनाये खाने में तो कभी नमक कम है कभी मिर्च तेज है कहते रहते हो!और बेटी को बजाय कुछ कहने के इनाम देते हो !”

पिता हँसते हुए : “पगली … तेरा मेरा तो जीवन भर का साथ है …रिश्ता है पति पत्नी का, जिसमे नोक झोक .. रूठना मनाना सब चलता है !मगर ये तो बेटी है कल चली जाएगी ।आज इसे बो अहसास … बो अपनापन महसूस हुआ जो मुझे इसके जन्म के समय हुआ था ।आज इसने बड़े प्यार से पहली बार मेरे लिए कुछ बनाया है ,फिर बो जैसा भी हो मेरे लिए सबसे बेहतर और सबसे स्वादिष्ट है !”

ये बेटिया अपने पापा की परीया और राजकुमारी होती है जेसे तुम अपने पापा की हो !

वो रोते हुए पति के सीने से लग गई और सोच रही थी … इसी लिए हर लड़की अपने पति में अपने पापा की छवि ढूंढ़ती है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *