बाल संस्कार

युवा पीढ़ी को बताना होगा उनके सच्चे आदर्श कौन है

*श्रुतम्-191*

 *युवा पीढ़ी को बताना होगा उनके सच्चे आदर्श कौन है?*

वर्तमान समय की आवश्यकता है कि हम अपने रोल मॉडल्स के चयन पर पुनर्विचार करें। जहाँ एक तरफ विज्ञापन के जरिये फिल्मी सितारे युवाओं को गुटखा खाने को प्रेरित कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ क्रिकेट स्टार बच्चों को ऑनलाइन सट्टा खेलने के लिये उकसा रहे हैं।

जब बार बार क्रिकेटर विज्ञापन में हर अन्तराल के बीच में और हर ओवर के बाद आकर बोलता है कि “दिमाग लगाना है तो ड्रीम इलेवन में लगाओ” तो एक योजनाबद्ध तरीके से बच्चों का माइंड कैप्चर किया जा रहा है, उनके मन मस्तिष्क में जुए से पैसे कमाने को सही ठहराया जा रहा है।  उसके परिणाम कितने गम्भीर होंगे यह हम भलीभांति जानते हैं या फिर जानबूझकर आंखें बंद करके बैठे हैं।

आईपीएल में आये हुए विदेशी खिलाड़ी इस आपदा में लोगों की मदद के लिए दान कर रहे हैं और कितनी शर्मनाक बात है कि भारतीय टीम के खिलाड़ी हमारे बच्चों को सट्टे की लत लगा रहे हैं और ड्रीम इलेवन जैसे और कई ऑनलाइन गेम्स से पैसे कमाने में लगे हैं।

इनसे सावधान रहिए और अपने बच्चों को भी सतर्क करिए क्योंकि जिन्हें आप जिन्हें सितारें मान बैठे हैं वो आपकी आने वाली पीढ़ी  को बर्बाद करने में लगे हुए हैं! अपने बच्चों को विदेश भेज रहे हैं और आपके बच्चों को गुटखे और सट्टे की लत लगा रहे हैं! अगर विमल और राजश्री इतना ही अच्छा है तो इन तथाकथित सितारों को कहिए कि अपने बच्चों को भी यही सिखाएँ।

*परिवार के वरिष्ठ लोगों को इस सम्बन्ध में अवश्य चिन्तन करके युवा पीढ़ी को सचेत करना होगा  और परिवार के वातावरण को प्रेरणादायी बनाना होगा।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *