बाल संस्कार

 51 शक्तिपीठ

श्रुतम्-306

 51 शक्तिपीठ

 1.किरीट- विमला

पश्चिम बंगाल के मुर्शीदाबाद जिला के किरीटकोण ग्राम के पास माता का मुकुट गिरा था। मुर्शिदाबाद कोलकाता से 239 किलोमीटर की दूरी पर है और और यहां पहुंचने में लगभग 6 घंटे लगते हैं।

2. वृंदावन- उमा

उत्तरप्रदेश के मथुरा जिले के वृंदावन तहसील* में माता के बाल के गुच्छे गिरे थे। वृंदावन आगरा से 50 किलोमीटर और दिल्ली से 150 किलोमीटर दूर है। निकटतम रेलवे स्टेशन मथुरा, 12 किमी की दूरी पर है।

3. करवीरपुर या शिवहरकर

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित यह शक्तिपीठ है, जहां माता की आंखें गिरी थी। यहां की शक्ति महिषासुरमदिनी तथा भैरव क्रोधशिश हैं। उल्लेख है कि वर्तमान कोल्हापुर ही पुराण प्रसिद्ध करवीर क्षेत्र है। ऐसा उल्लेख देवीगीता में मिलता है। कोल्हापुर सड़क, रेलवे और वायु मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम बस स्टैंड कोल्हापुर में है। हैदराबाद, मुम्बई आदि जैसे विभिन्न शहरों से कई सीधी बसें हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन कोल्हापुर में है।

 4. श्रीपर्वत- श्रीसुंदरी

कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र के पर्वत पर माता के दाएँ पैर की पायल गिरी थी। जुलाई से सितंबर तक सड़क से जाने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। नजदीकी रेलवे स्टेशन जम्मू तवी है जो लद्दाख से 700 किमी दूर है। निकटतम हवाई अड्डा लेह में है।

 5.वाराणसी- विशालाक्षी

उत्तरप्रदेश के काशी में मणिकर्णिक घाट पर माता के कान की बाली गिरी थी। वाराणसी के दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं: शहर के केंद्र में वाराणसी जंक्शन, और मुगल सराय जंक्शन शहर लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर है। वाराणसी हवाई अड्डा शहर के केंद्र से लगभग 25 किलोमीटर दूर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *